एनआरआई उत्तराखंडी दूल्हे की प्रताडि़त देहरादून की लडक़ी ------------हरीश लखेड़ा / / देहरादून। उत्तराखंड के संभ्रांत ब्राह्मण परिवार की वह बेहद सुंदर लडक़ी सतरंगी सुनहरे सपनों के साथ ब्याह कर अमेरिका गई थी। सोचती थी कि वह खूबसूरत दुनिया उसके जीवन में भी सतरंगी खुशियां देंगी। मगर उसे क्या मालूम था कि एक दिन उसके सपने टूटकर बिखर जाएंगे। सॉफ्ट इंजीनियर एनआरआई...
------- व्योमेश चन्द्र जुगरान / नई दिल्ली। पहाड़ हो चाहे देहरादून या दिल्ली, इन दिनों हमारे पर्वतीय समाज में जगह-जगह नाचगानों, मेळे-खौळों और कवि सम्मेलनों का ततंबा मचा  हुआ है। पहाड़ के प्रमुख अखबारों में इन्हीं खबरों की भरमार है। यह 'उत्सवी वातायन' सत्ता प्रतिष्ठानों को भी खूब भा रहा है क्योंकि उनके लिए सर्वश्रेष्ठ स्थिति यही है कि समस्याओं...
आप यदि बर्फ देखना चाहते हैं तो उत्तराखंड चले आइए। इस साल की पहली बर्फबारी के चलते उत्तराखंड के पहाड़ों की चोटियां बर्फ से भर गई हैं।
नई दिल्ली। यह फोटो अपने आप में इस दर्दनाक घटना की कहानी बयां कर रही है।  ये उत्तराखंड के पौड़ी जिले के गगवाडस्यू पट्टी के गेहड गांव की बीरा देवी बुटोला  हैं। तेंदुए के हमले में वे गंभीर रूप से घायल हो गई है। वे घर से सुबह घास काटने गई थी कि जंगल में के रास्ते में तेंदुए ने...
नई दिल्ली। कुमायुंनी के साहित्यकार पूरन चंद कांडपाल और गढ़वाली भााषा के साहित्यकार मदनमोहन डुकलाण को क्रमश: 2016 और 2017 के लिए कवि कन्हैयालाल डंडरियाल साहित्य सम्मान से सम्मानित किया गया है। प्रसिद्ध संत भोले जी महाराज व माता मंगला जी और मुख्य अतिथि केन्द्रीय कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने इन साहित्यकारों के यह सम्मान दिया। यहां कंस्टिट्यूशन क्लब...
देहरादून। ‘उत्तराखंड आंदोलन : स्मृतियों का हिमालय’ पुस्तक के लेखक वरिष्ठ पत्रकार हरीश लखेड़ा को एक नवंबर को देहरादून के टाउन हॉल में सम्मानित किया जाएगा। राज्य की 17वीं वर्षगांठ पर हो रहे कार्यक्रमों के तहत टाउन हॉल में यह कार्यक्रम हो रहा है। उत्तराखंड राज्य गठन के 17 साल बाद इस अभूतपूर्व आंदोलन पर समग्रता में दस्तावेजों के साथ...
नई दिल्ली। 11 अगस्त, 2017 । मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को नई दिल्ली स्थित उत्तराखंड सदन में वरिष्ठ पत्रकार हरीश लखेड़ा की पुस्तक ‘उत्तराखंड आन्दोलन-स्मृतियों का हिमालय’ का विमोचन किया। इस मौके पर रावत ने लखेड़ा को बधाई देते हुये कहा कि उनकी पुस्तक ‘उत्तराखण्ड आन्दोलन-स्मृतियों का हिमालय’ उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलन के बारे में उत्तराखंड की भावी पीढ़ी...
भारत में रह रहे पाक समर्थको इस फोटो को ठीक से देखा लो।  यह फोटो उत्तराखंड के वीर पुत्र शहीद मेजर कमलेश पांडे की  है। साथ में  पत्नी रचना और मात्र दो साल की प्यारी बेटी  भूमिका भी है  जब तक वह ठीक से बोलना -चलना सीखेगी, तभी उसे मालूम होगा की उसके पिता नहीं रहे। देश के लिए...
नई दिल्ली।  उत्तराखंड राज्य बनने के बाद पहाड़ी क्षेत्रों में 3000 गांव पूरी तरह खाली हो गए हैं और ढाई लाख से ज्यादा घरों में ताले लटके हुए हैं। ये सरकारी आंकडे हैं।  गैर सरकारी आंकड़ा इससे कहीं अधिक हो सकता है।  समृद्ध पहाड़ी शैली में निर्मित हजारों भव्य मकानों में घास व झाड़ियां उग गई हैं।   पूरे के...
शहीद श्रीदेव सुमन महान क्रांतिकारी थे।  श्रीदेव सुमन के संघर्ष ने टिहरी रियासत की चूलें हिला दी थीं। वे अहिंसावादी स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने टिहरी जेल में एक बार नहीं बल्कि दो बार आमरण अनशन किया। दूसरी बार 84 दिनों तक जेल के भीतर आमरण अनशन करते हुए श्रीदेव सुमन ने 25 जुलाई, 1944 को अपने प्राण त्याग दिये।  ...

FOLLOW ME

0FansLike
388FollowersFollow
5,977SubscribersSubscribe

WEATHER

- Advertisement -