किताब " उत्तराखंड आंदोलन : स्मृतियों का हिमालय "जल्दी ही प्रकाशित हो कर आने वाली है। देहरादून के समय साक्ष्य से यह पुस्तक प्रकाशित हो रही है।  इसमें लखेड़ा ने लिखा है कि-----   स्मृतियों के महासागर में से यह मात्र एक बूंद है। अथाह गहरे व अंतहीन महासागर की एक बूंद। इस बूंद को समेट पाना आसान नहीं था।...
वरिष्ठ पत्रकार राकेश तिवारी का उपन्यास  ‘फसक‘. प्रकाशित हो कर सामने है.  ‘फसक‘. कुमाऊँनी में फसक का मतलब गप्प होता है. . उत्तराखंड मूल के तिवारी बहुत अच्छी कहानियां भी लिखते हैं.  यह उपन्यास वाणी प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है. --- हजारी प्रसाद द्विवेदी गल्प यानी उपन्यास को गप्प मानते थे. उपन्यास का एक रोचक अंश. प्रसंग गौ-कथा सुनने का...

FOLLOW ME

0FansLike
388FollowersFollow
10,917SubscribersSubscribe

WEATHER

- Advertisement -