नई दिल्ली। पेरिस के जलवायु सम्मेलन को दो साल हो चुके हैं।   तब तय किया गया था कि ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए सभी देश धरती का तापमान अब दो डिग्री से ज्यादा नहीं बढऩे देंगे, लेकिन यह घोषणा कागजी साबित  होती दिख रही है। यदि इस घोषणा पर अब भी ईमानदारी से अमल नहीं हुआ तो यह तय...
नई दिल्ली। गोरैया, जिसे उत्तराखंड में घंड्यूड़ी कहा जाता है, आज विलुप्त होती जा रही है। दिल्ली में तो बहुमंजिला इमारतें बन जाने से इसका आशियाना ही छिन गया है। इसलिए यहां कबूतर तो बढ़ रहे हैं, लेकिन गोरैया बहुत कम दिखती है। दिल्ली सरकार ने इस राज्यीय पक्षी घोषित तो किया है, लेकिन इसे बचाने के ज्यादा ठोस प्यास...
नई दिल्ली। हर साल 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस  के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरुकता बढ़ाने का काम किया जाता है लेकिन यह दिन रश्म अदायगी मात्र रह गया है। यदि ऐसा न होता तो आज गंगा-यमुना जैसी नदियां मैदानी क्षेत्रों में गंदा नाला नहीं बनती। भारत की राजधानी...
बात वर्ष1854 की है। तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति फ्रेंकलिन पियर्स ने रेड इंडियन की भूमि का एक विशाल भू-भाग खरीदने का प्रस्ताव उनके मुखिया शिएटल के पास भेजा। इस प्रस्ताव में उन्हें विस्थापित कर उनके लिए दूसरे इलाके में जमीन देने का प्रावधान था। सरल हृदय प्रकृति पुत्र शिएटल के लिए भूमि का अर्थ भेड़ों या चमकदार मोतियों की तरह...
उत्तराखंड के ॐ पर्वत पर भी ग्रीन हाउस गैसों और ग्लोवल वार्मिंग का असर साफ दिखने लगा है। पिथौरागढ़ स्थित छोटा कैलाश के नाम से पुकारे जाने वाले इस पर्वत पर अब कम बर्फ पड़ने से ॐ की आकृति ठीक से नहीं बन पा रही है। कैलाश को लेकर तो पहले से ही रिपोर्ट आ चुकी है कि ‘शिव...
देहरादून। उत्तराखंड के जंगलोंंं में आग लगने की घटनाएं शुरू हो गई हैं। केंद्र और प्रदेश सरकार को  पिछले साल की घटनाओं से सबक लेते हुए अभी से जरूरी कदम उठ लेने चाहिए। जंगलों की आग से वन संपदा खाक होने के साथ ही पर्यावरण को भी भारी नुकसान होता है और वन्य जीव भी मारे जाते हैं।  पशु-पक्षी...
नई दिल्ली। हिमालयी ग्लेशियर ही नहीं बल्कि देशभर के जंगल भी अब संकट में हैं।सरकारी रिपोर्ट भी कहती है की जंगल घाट रहे हैं।   केंद्रीय पर्यायरण व वन मंत्रालय की ‘इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट-२०११’ भी कह चुकी है कि वर्ष २००९ की तुलना में ३६७ वर्ग किमी वन क्षेत्र घटा गया था  जबकि केंद्र सरकार ने ग्रीन इंडिया मिशन...
उत्तराखंड के फलों  में  एक ऐसा फल जिसे सिर्फ सोचकर मुह में पानी आ जाता है वह है हिसर, hisar या हिंसालु  ।यह फल चीड़ के जंगल में पाया जाता है। अक्सर  यह  फल माल मवेशी चराने वाले बच्चे तोड़ कर लाते हैं और फिर सब इसके मीठे  स्वाद का मजा लेते हैं। इसे अंग्रेजी में हिमालयन येलो रसबेरी...
नई दिल्ली।मोक्षदायिनी गंगा राष्ट्रीय नदी का दर्जा मिल जाने पर भी मैली ही है । इसे निर्मल व अविरल बनाने के लिए बाद में गंगा नदी बेसिन प्राधिकरण भी बनाया गया, नमामि गंगे योजना भी चल रही है। तब से लगभग आठ  हजार करोड़ रुपये से भी ज्यादा  राज्यों को दे दिये गये, लेकिन आज भी कोई नहीं कह...
 (उत्तराखंड के  जंगलों में आग लगने की घटनाए  शुरू हो गई है।   चीड़ के विरोधियों का मानना है कि यह पेड़ अपने आसपास दूसरे पेड़-पौधों को नहीं पनपने देता  है। इसके अलावा इसका पिरुल ही जंगलों में आग लगने की मुख्य कारण है। हालांकि दूसरे वर्ग का मानना है कि चीड़ का पेड़ तो बहुत उपयोगी है। इसे उगाने...

FOLLOW ME

0FansLike
388FollowersFollow
5,497SubscribersSubscribe

WEATHER

- Advertisement -