….तो अब हर्षिल क्षेत्र में भी जा सकेंगे विदेश पर्यटक

0
271

देहरादून। उत्तरकाशी जिले के हर्षिल कस्बे में भी अब देशी- विदेशी पर्यटक जा सकेंगे।  केंद्र सरकार ने हर्षिल को इनर लाइन (आंतरिक सुरक्षा रेखा) से मुक्त कर पर्यटकों के लिए खोल दिया है। इसके साथ ही अब नेलांग घाटी में भी विदेशी पर्यटक घूम सकेंगे।
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में बीते 19 जून को आदेश जारी कर दिया हैं। उल्लेखनीय है कि 1962 में भारत- चीन युद्ध के बाद बने हालात को देखते हुए भारत सरकार ने उत्तरकाशी के इनर लाइन क्षेत्र (हर्षित) में पर्यटकों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया था। लंबे समय से उत्तरकाशी के जागरूक प्रतिनिधि, होटलियर्स और ट्रेकिंग संचालक इस प्रतिबंध को हटाने की मांग कर रहे थे। वर्ष 2015 में गृह मंत्रालय ने सामरिक दृष्टि से संवेदनशील नेलांग घाटी में भारतीयों को तो जाने की अनुमति दे दी थी, लेकिन वहां विदेशियों के जाने पर प्रतिबंध बरकरार था। जिला प्रशासन ने अप्रैल 2017 में इनर लाइन के संबंध में केंद्र सरकार को विस्तृत रिपोर्ट भेजी थी, जिसका अध्ययन करने के बाद गृह मंत्रालय ने यह आदेश जारी  किया। इस आदेश के अनुसार  इनर लाइन अब हर्षिल कस्बे से 50 मीटर दूर होगी, जिसे स्थानीय प्रशासन ही चिह्नित करेगा। इसके साथ ही अब देशी- विदेशी सैलानी नेलांग घाटी की सैर कर सकेंगे। उत्तराखंड में उत्तरकाशी जिले के अलावा चमोली और पिथौरागढ़ जिलों में भी चीन सीमा से लगे इनर लाइन क्षेत्र हैं। जहां जाने के लिए परमिट की जरूरत होती है।
———-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here