यह उत्तराखंड की प्रसिद्ध व्यंजन है। दिल्ली  स्थित उत्तराखंड सदन में यह उपलब्ध है।
विधि–
उत्तराखंड में काला भट्ट होता है जिसे काला सोयाबीन भी कहते हैं। साबुत भट्ट को अच्छी तरह से साफ कर लें, और उन्हें तवे में भून लें।
इससे पहले कढ़ाही  में तेल गर्म करें, उसमें साबूत जीरा डालकर भूने। जीरा जब हल्का भूरे रंग का दिखने लगे तो इसमें अब कटा हुआ प्याज डालकर हल्का गुलाबी होने तक फ्राई करें। भुने भट्ट को कड़ाही में डाल लें।
इससे पहले दूसरे बर्तन में बेसन का घोल बना लें। कुछ लोग आटा या चावल का आटा भी लेते हैं लेकिन उसे फ्राई करना होता है। इस घोल को भट्ट के साथ कड़ाही में डाल दें, इसमें अब हल्दी, जीरा, धनिया और नमक मिर्च आदि मसाला डाल दें। स्वाद के लिए मिक्सी में पिसा टमाटर भी डाल सकते हैं। इसमें पानी मिला लें और हलकी आँच में पकायें। पोने घंटे तक बकाने के बाद यह तैयार हो जाता है। अब इसे चावल के साथ परोस सकते हैं।
—–
सामग्री-
काले भट्ट की दाल, कटा हुआ प्याज, आधा चम्मच साबुत जीरा, एक चौथाई चम्मच हल्दी पाउडर,धनिया पाउडर, बेसन या आटा, मिर्च, मसाले, टमाटर, नमक।
————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here